सभी घोटाले देखने के लिए क्लिक करें:

W

जल बोर्ड घोटाल (गुजरात)

भाजपा शासित गुजरात में 340 करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया है। यह पता चला है कि गुजरात सरकार के अंतर्गत आने वाले गुजरात जल आपूर्ति और सीवरेज बोर्ड ने अपने खर्चों को सूचीबद्ध करते हुए भारत के चार्टर्ड एकाउंटेंट्स संस्थान द्वारा निर्धारित लेखांकन मानकों का पालन नहीं किया है। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री सुरेश मेहता जल बोर्ड के वार्षिक खातों और लेखा परीक्षक की रिपोर्ट (2017-18) का हवाला देते हुए भ्रष्टाचार पर सवाल उठाते हैं। मेहता ने कहा, "यह कई करोड़ का घोटाला सिर्फ एक साल में हुआ।"

अधिक पढ़ें

तस्वीर साभार: DNA India

जल संसाधन विभाग घोटाला (मध्य प्रदेश)

Weight Manipulation Scams

कैग रिपोर्ट में मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की कई सरकारी परियोजनाओं में वित्तीय अनियमितता पाई गई। इससे सरकारी खजाने को 8017 करोड़ रुपये का भारी नुकसान हुआ। यह पाया गया कि राज्य के लोक निर्माण विभाग के प्रावधानों का जल संसाधन विभाग के अधिकारियों द्वारा उल्लंघन किया गया था। किसी भी सर्वेक्षण या जांच किए बिना तकनीकी आवंटन किए गए थे, जिसके परिणामस्वरूप सार्वजनिक धन का भारी नुकसान हुआ था।

अधिक पढ़ें

तस्वीर साभार: india.com

वजन हेर-फेर घोटाला

Weight Manipulation Scams

गुजरात के लोक अधिकारियों और स्थानीय राजनेताओं ने मध्यस्थों की मदद से कथित रूप से किसानों से मूंगफली लेकर तेल चक्की मालिकों को बेची। कुल वजन में चोरी और अंतर पर पर्दा डालने के लिए, स्टॉक के साथ रेत और कंकड़ मिलाया गया था। 31,500 बोरों में भारी मात्रा में कंकड़ और रेत पायी गयी थी। गिरफ्तार लोगों में नाफेड, जीयूजेसीओटी और मूंगफली की सहकारी समितियों के अधिकारियों शामिल थे। हालांकि, कुछ भाजपा नेता कथित तौर पर घोटाले में शामिल थे और विपक्ष ने दावा किया कि सत्तारूढ़ दल उनकी रक्षा करने की कोशिश कर रहा है।

अधिक पढ़ें

तस्वीर साभार : Firstpost