सभी घोटाले देखने के लिए क्लिक करें:

N

नर्मदा वृक्षारोपण घोटाला (मध्य प्रदेश)

Narmada Plantation Scam (Madhya Pradesh)

शिवराज सिंह सरकार ने एक दिन के भीतर नर्मदा नदी के किनारे छह करोड़ से अधिक पौधे लगाने के लिए 2 जुलाई, 2017 को एक अभियान चलाया। 2017-18 के दौरान राज्य सरकार द्वारा नर्मदा नदी के तट पर फल और गैर-फलाहारी पेड़ों के वृक्षारोपण के लिए 102 करोड़ रुपये आवंटित किए गए थे, लेकिन अभी तक वृक्षारोपण अभियान का कोई आधिकारिक मूल्यांकन नहीं किया गया है। कार्यकर्ता विनायक परिवार ने आरोप लगाया कि वृक्षारोपण की लेखा-जोखा रिपोर्ट ने साबित कर दिया है कि एक करोड़ पौधे बच गए हैं क्योंकि वृक्षारोपण जल्दबाज़ी में किया गया था। जब इस गड़बड़ी से परिचित कुछ 'बाबा' घोटाले का पर्दाफाश करने वाले थे, तो सरकार ने घोटाले को उजागर करने से रोकने के लिए सभी बाबाओं को राज्य मंत्री का दर्जा दे दिया।

अधिक पढ़ें

तस्वीर साभार : www.newsclick.in

नीरव मोदी घोटाला

Nirav Modi Scam

भारत के इतिहास की यह सबसे बड़ी बैंक धोखाधड़ी है। ज्वैलर और डिजाइनर नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी को पंजाब नेशनल बैंक को 22,000 करोड़ रुपये का चूना लगाने के बाद भागने की इजाजत दी गयी। पीएनबी बैंक के अधिकारियों के साथ मोदी और चोकसी के खिलाफ सीबीआई ने आरोप पत्र दाखिल किया है। 2016 में पीएमओ, सेबी, ईडी और सीबीआई को धोखाधड़ी के संबंध में शिकायतें की गई थीं। हालांकि, उन शिकायतों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई थी। नीरव मोदी को 23 जनवरी 2018 को दावोस में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मंच साझा करते हुए देखा गया था)

अधिक पढ़ें

तस्वीर साभार : indianexpress.com

उत्तरी काछार पहाड़ी घोटाला (असम)

North Cachar Hills scam (Assam)

सरकारी धन से लगभग 1000 करोड़ रुपये निकाले गए और उत्तर काछार पहाड़ी जिले में आतंकवादी गतिविधियों को वित्त पोषित करने के लिए इस्तेमाल किया गया था। इस मामले में दो बीजेपी नेताओं, जेवेल गारलोसा और निरंजन होजई को मई 2017 में उम्रकैद की सजा सुनाई गयी थी। दोनों भाजपा नेता आतंकवादी समूह दिमा हलम दौगा के नेता भी थे, जिसे बाद में तोड़ दिया गया था। धन का इस्तेमाल भारत के खिलाफ युद्ध और आतंकियों की मजबूती के लिए हथियार और गोला बारूद खरीदने के लिए किया गया था।

अधिक पढ़ें

तस्वीर साभार : The New Indian Express

नैनो संयंत्र भूमि घोटाला (गुजरात)

Nano plant land scam (Gujarat)

गुजरात सरकार द्वारा टाटा समूह को सानंद के पास एक नैनो संयंत्र स्थापित करने के लिए 900 रुपए प्रति वर्ग मीटर की दर से 1100 एकड़ जमीन आवंटित की गई थी। ऐसा तब हुआ जब जमीन की बाजार दर प्रति वर्ग मीटर 10000 रुपये थी। इससे टाटा समूह को 33000 करोड़ रुपये का लाभ मिला।

अधिक पढ़ें

तस्वीर साभार : Times of India

राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन घोटाला

NULM scam

राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत सरकार द्वारा गरीबों के लिए केवल 208 घर बनाने के लिए 1078 करोड़ रुपये खर्च किए गए। आवास योजना के कार्यान्वयन में आयी अनियमितताओं के कारण मोदी सरकार को सर्वोच्च न्यायालय की फटकार सुननी पड़ी। सुप्रीम कोर्ट बेंच ने कहा: “यह एक बड़ा घोटाला है। आपका (केंद्र सरकार का) हलफनामा हमें सबकुछ बताता है। पैसा कहाँ चला गया?”

अधिक पढ़ें

तस्वीर साभार : Times of India

नीट घोटाला

NEET scam

सरकार द्वारा संचालित मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश लेने वाले अभ्यर्थियों से 25 लाख रुपये से 1 करोड़ रुपये तक वसूले गए और प्रवेश परीक्षा पास करने के लिए उनको उपकरण उपलब्ध कराए गए थे। व्यापम घोटाले को उजागर करने वाले डॉ. आनंद राय ने इंगित किया कि नीट पीजी में निजी मेडिकल कॉलेजों के शैक्षणिक रूप से कमजोर 3000 से अधिक छात्रों का गलत ढंग से प्रवेश सुनिश्चित किया गया। उन्होंने यह भी कहा कि नीट पीजी आयोजित करने के लिए बिना किसी अधिसूचना के 40 मिलियन डॉलर का ठेका दिया गया था।

अधिक पढ़ें

तस्वीर साभार : Firstpost

नलिया घोटाला (गुजरात)

Nalia scam (Gujarat)

19 वर्षीय महिला के साथ उसके मालिक और भाजपा नेता शांतिलाल सोलंकी सहित दो अन्य लोगों ने बलात्कार किया था। सोलंकी कच्छ जिले के अबडासा तालुका से बीजेपी इकाई के ओबीसी सेल का संयोजक है। उस लड्की ने कहा कि वह सेक्स रैकेट के कई पीड़ितों में से एक है। कच्छ पुलिस ने पता लगाया कि 60 से ज्यादा लोग इस रैकेट में शामिल हैं और नाबालिग लड़कियों के भी इस यौन शोषण का हिस्सा होने का अनुमान लगाया।

अधिक पढ़ें

तस्वीर साभार : India Times